Sunday, 20 July 2014

Contempt petition against HC Judges- hearing over, order reserved


Contempt petition against HC Judges- hearing over, order reserved

The contempt petition against Justice Sunil Ambwani and Justice D K Upadhayaya of Allahabad High Court filed by me was heard by Advocate General, Uttar Pradesh, Vinay Chandra Mishra on Saturday (19 July) who reserved his order after hearing the matter.

The contempt petition says that in a PIL filed by me, in their order dated 11 April 2014 the two Judges used contemptuous statements against the High Court and its various Judges by saying that my PILs were not in public interest while a large number of these were actually entertained by various Judges. Similarly it said that the petitioner got “tacit encouragement in filing such petitions” which is a direct imputation to other Judges of the Court.

The application was presented before the Advocate General under section 15 of the Contempt of Courts Act on 19 April to give permission to prosecute these two Judges for contempt of their own Court. 

Copy of Contempt Petition----
 

हाई कोर्ट जज पर अवमानना याचिका- सुनवाई पूरी, आदेश सुरक्षित 

इलाहाबाद हाई कोर्ट के जस्टिस सुनील अम्बवानी और जस्टिस देवेन्द्र कुमार उपाध्याय के विरुद्ध दायर अवमानना याचिका में शनिवार (19 जुलाई) को यूपी के महाधिवक्ता विनय चन्द्र मिश्र के समक्ष सुनवाई हुई जिन्होंने सुनवाई के बाद अपना निर्णय सुरक्षित कर लिया.

अवमानना याचिका के अनुसार मेरे द्वारा दायर एक पीआईएल में दोनों जजों ने 11 अप्रैल 2014 के अपने आदेश में हाई कोर्ट तथा इसके विभिन्न जजों के खिलाफ अवामानानापूर्ण वक्तव्य देते हुए कहा था कि मेरी  याचिकाएं जनहित में नहीं थीं, जबकि सत्यता यह थी कि मेरे तमाम पीआईएल को कई जजों ने जनहित का स्वीकार किया था. इसी प्रकार आदेश में कहा गया था कि मुझे  ये पीआईएल दायर करने में प्रच्छन सहयोग मिला था, जो सीधे-सीधे अन्य जजों के प्रति आरोप था. 

यह याचिका 19 अप्रैल को महाधिवक्ता के समक्ष कंटेम्प्ट ऑफ़ कोर्ट्स एक्ट की धारा 15 में इन दोनों जजों के खिलाफ अपने ही कोर्ट की अवमानना करने का वाद चलने की अनुमति हेतु दायर की गयी थी.

No comments:

Post a Comment